मैं हूँ 5 बार बोलो और देखो कमाल | Positive Affirmations and Thinking That Can Change Your Life

By Happy Singh 

इस दुनिया में

बहुत सारे Words यानी (शब्द ) Exist करते हैं पर मैं हूं ये दुनिया की सबसे दो Powerful यानी (शाक्ति साली) शब्दों में से एक नही बल्की दुनिया की दो सबसे शक्तिशाली शब्द
हैं

अब आप सोच रहे होगे की क्या हैं ये मैं हूँ तो आप इस पोस्ट को शुरू से लेकर अन्त जरूर देखे क्योंकि मैं________हूँ के बीच मे किसी भी शब्द को लगा के जैसे  ( मैं अमीर हूँ )  ( मैं सफल हूँ ) ( मैं बुद्धिमान हूँ ) शब्द लगा के आप कुछ भी बन सकते हो आप अपने Class के Topper बनाना चाहते हो

Affirmations से ये आप कर सकते हो आप किसी Jop को पाना चाहते तो हो Affirmations से वो भी सम्भव है
आप अपनी health यानी (स्वस्थ को अच्छा करना चाहते हो ये भी Affirmations के जरिये आप बहुत आसानी से कर सकते हो
यार अब ये मत सोचना की मैं कोई So cold ( जादू टोना) या फिर किसी तंत्र मंत्र के बारे में बताने जा रहा हूँ ये Affirmations है

मैं जानता हूँ कि ये एक अजीब सा नाम है Affirmation

पर दोस्त आप बस ये जान लो कि ये जो दो शब्दो की बात की न मैं हूँ उसे ही Affirmations कहते हैं
Affirmations शब्दों का साई योजन है जिससे आप बार बार सुनते हो अपनी जिंदगी में कुछ पाने के लिये
दो सबसे शक्तिशाली शब्द मैं_________हूँ के बीच मे आप कुछ भी लगा दो उसे आप सच कर सकते हों
जैसे ( मैं बुद्धिमान हूँ ) ( मैं होसियार हूँ ) ( मैं ऊर्जा हूँ ) ( मैं अमीर हूँ ) ( मैं भाग्यशाली हूँ ) कुछ भी लगा दो इनके बीच मे और समय के साथ साथ  आप सच मे वो बन जाते हों जो आप उन दो शब्दों के बीच मे लगते हो चाहे आपकी अभी की परिस्थिति किस भी हों Affirmations को जब आप सुनते हो तब आप पर उसका अशर होता है मतलब ये शब्द आपके कान में जाना चाहिए बस चाहें आप उसे खुद बोल कर अपने कान में भेज रहे हों या फिर अपनी की अवाज को Record करके बार बार सुन रहे हो
अगर रिकॉर्ड कर लोगे तो अच्छा  रहेगा क्योंकि फिर आप दिन में किसी भी वक़्त उसे सुन सकते हो
और अगर आप बैठ के Affirmations बोलोगे तो सुबह का वक़्त आपके के लिए सबसे अच्छा होता है

    पर मैं आपको यही कहूंगा कि

Affirmations को आप अपनी ही अवाज में रिकॉर्ड करके उसे सुनना Affirmations में आप Positive ( सकरात्मक ) बाते बोलते हो अपने आप को ले कर पर आप मुझे ये कहोगे अरे यार ये तो सब पता है कि हमें सकारात्मक सोचना चाहिए  इसमे क्या नया है पर दोस्त यही बात है Affirmation और  positive thinking  में बहुत अंतर है ये दोनों अलग चीजे है
Positive सोचो सकारात्मक  सोचो सब कहतें है

पर आसल जादुई चीज जो आपके फायेदे की है

वो तो कोई बात ही नही है Positive thinking यानी ( सकारात्मक ) सोच औऱ Affirmations में ये अन्तर है कि positive thinking में आप ये कहते हो कि मेरे साथ सब अच्छा होगा .की मेरे साथ सब कुछ अच्छा होगा. मैं अमीर बनूगा मेरी life मस्त होगी  positive thinking से Affirmations इस लिये अच्छी है क्योंकि positive thinking में आप ये बोलते हो कि मेरे साथ सब अच्छा होगा “होगा” जब आप होगा बोलते हो या सोचते हो तब आप future यानी ( भविष्य ) के बारे में बोलते हो कि हाँ  मैं टॉप करूँगा “करूँगा” इसे आपका दिमाक ये सोचता है कि आप इन सच चीजो को अभी नही बल्कि future यानी (भविष्य) में पाना चाहते हो पर Affirmations में आप ये कहते हो कि मैं टॉपर हूँ. मैं अमीर हूँ  वही बात मैं___________हूँ के बीच मे मैं टॉपर हूँ . मैं अमीर हूँ.
Affirmations जब आप रिकॉर्ड करके सुनोगे
या फिर बैठ कर आप बोलोगे तब आपको Visualize  करना होगा यानी सोचना होगा कि Present में यानी ( वर्तमान ) में आपके पास पहले से ही वो चीजे हैं जिसके बारे में आप सोच रहे हो मतलब आप बिलकुल बिंदाश ये सोचना की आपके पास तो पहले से ही है ना कि आपको Future यानी ( भविष्य ) में चाहिये आपको ये feel करना होगा
की आप पहले से टॉपर हो  भाई जनता हूँ अगर आप अपने Class के टॉपर नही हों तो आप मेरे से कहोगे अरे क्या कहा रहे हो भाई टॉपर तो वो शर्मा जी का लड़का है भाई यही तो Secret है Affirmations ऐसी ही काम करता है जैसे की मैन कहा जा  आप बोलोगे की मैं टॉपर हूँ तब आपका दिमाक तुरंत कहने लगेगा और आपको  Affirmations में disturb करने की कोशिश करेगा दिमाग ये कहेगा हट तू थोडी न टॉपर है अब बोलोगे मैं बहुत अमीर हूँ तब आपका दिमाग नही मानेगा  पर इसे ही तो रोकना है चाहे आपका दिमाग कुछ भी बोले आपको बस बोलते रहना है या फिर सुनते रहना है अगर आप रिकॉर्डिंग सुन रहे हो तो
जब आप ये बोलते की मैं टॉपर हूँ तो आपका दिमाग शुरू में नही मानता है कि आप टॉपर हो क्योंकि आप अपने दिमाग को पहले से ही बता के रखें हो कि आप एक ठीक ठाक अच्छे खासे  से Average student हो

पर जब आप Affirmations कहते हो तब आपका दिमाग़ ज्यादा देर तक नही रुक पता और आखिर में उसे मानना ही पड़ता है कि आप एक टॉपर हो देखो आपका ये जो शरीर है न ये आपके दिमाग के हाथ मे है आपका जो मुड़ है वो आपके दिमाग के पास है
आपके आपके अंदर कितनी बुद्धि है यानी  intelligence है आपके दिमाग के पास ही है इसी चीज को समझने की शक्ति कितनी है वो भी आपके दिमाग के हाथ मे ही है आपकी memory power
यानी स्मरण शक्ति कितनी है वो आपका दिमाग ही तय करता है तो science ये है कि जब आप जब आप Affirmations बोलते हो तब आप अपने दिमाग को change करने में मजबूर कर देते हो आप अपनी एक imagination यानी सोच को reality यानी वास्तविकता में बदल देते हो मैं टॉपर हूँ , मैं स्मार्ट हूँ , मैं निडर हूँ , मैं भाग्यशाली हूँ , मैं स्वस्थ हूँ , ये बोलने से आपका दिमाग सच मे ये सोचने लगता है कि सच ये सब हो
भले ही आप ये अशल में न हो अब आपके दिमाग के पास आँख थोड़ी न है कि वो देख पाये की असल मे बाहर क्या चल रहा है आपका दिमाग उस बड़े से कंकाल के अंदर है इस लिये आप अपने दिमाग को आराम से Convince कर सकते हो कि आप हो कि आप सच मे स्मार्ट हो आप सच मे अमीर हो आप सच मे होशियार हो

अब जब दिमाग मान लेता है कि आप ये सब हो तो आपके दिमाग मे ऐसी Chemicals release करने लगता है जिसे आप निडर हो जाते हो ऐसी ऊर्जा आने लगती है जिसे आप होशियार बन जाते हो ये कहा गया है बहुत महान लोगो ने इस बात को माना है कि
You can’t Say Something for Very long And not Have an Expression of that thing manifest 

मतलब ऐसा हो ही नही सकता कि affirmations काम न करे आप जब affirmations बोलते हो तो वो चीज आपकी जिंदगी में न आये ये हो ही नही सकता ये universal Truth है मतबल हर परिस्थिति में affirmations काम करती है धरती क्या घूमना बंद कर सकती है नही न वो Universal Truth  है बिलकुल वैसे ही affirmations भी universal Truth है हर जगह हर परिस्थिति में काम करती है affirmations का इस्तेमाल कर के दुनियां के बहुत सारे लोगो ने अपनी life बदल दिया

अगर आपका Marks अच्छा नही आता तो आपको ऐसा लग रहा होगा क्या सच मे Affirmations से मेरी marks अच्छी हो सकती है आपका दिमाग कहेगा अभी की situation यानी कि परिस्थिति में ऐसा लग तो नही रहा कि मैं पूरे class पछाड़ के up position में पहुच जाऊँगा पर दोस्त ये जान लो कि पूरी तरह से सम्भव है मैं ऐसा थोड़ी न कह रहा हूँ कि आप  affirmations बोलोगे और बस marks आ जायेंगे लिखा होगा 100/100 इसके पीछे logic भी तो है आप affirmations कहोगे उसके चलतेआपका दिमाग ऐसा बन जायेग की आपको पढ़ने में इतना मज़ा आयेगा जितना आपको एक Cricket match को देखने मे आता है या फिर मोबाइल फोन में गेम खेलते समय लगता है

आप ही बोलो क्या मजेदार life होगी जब पढ़ने इतना मन लगेगा इस दुनिया मे ऐसे कई लोग है जो बहुत गरीबी थे उनकी जिंदगी में कुछ नहीं था पर affirmations की हेल्प से उन्होंने वास्तविकता को पूरी तरह से बदल दिया पर जैसा कि मैंने कहा मेंन बात यह है जब आप affirmations बोल रहे होंगे या फिर सुन रहे होंगे तब आप बिलकुल feel करना कि आप ये Already हो ये सबसे मेंन Point है हमारे देश में बहुत कम ही लोगो को Affirmations के बारे में पता है और आप उन  lucky यानी भाग्यशाली लोगो मे से एक हो

जिनको इसके बारे में अब पता चल गया है मै चाहता हूँ कि schools में भी इसके बारे में बताया जाये पर Schools का तो क्या कहना आज कल के school और colleges में सिर्फ किताबी ज्ञान दिया जाता है स्कूल में ये बोला जाता है बोला नही force किया जाता है कि पढ़ो पढ़ो पढ़ो पर ये कोई  नही बताता की कैसे पढ़ो simple सी बात है पढ़ने के लिये आपका दिमाग आपके साथ होना चाहिये किताब जब उठाते हो तब नींद आने लगती है पढ़ने का मन नही करता ये किस लिए ये इस लिये क्योंकि आपका दिमाग आपके साथ नही है simple सा Fact है आपका दिमाग हेल्दी होगा सांत होगा तभी न आप पढ़ पाओगे और आपके फायदे की बात ये है कि मैं टॉपर हूँ इस
affirmations से आपका दिमाग आपके साथ होना लगता है आपका दिमाग सांत होने लगता है
तो कैसे पढ़ इसका simple सा solution है ये वाला Affirmations मैं टॉपर हूँ
लेकिन ये सब कोई स्कूल में तो बतायेगा नही पर मेरे दोस्त अभी आपका Happy Singh जिन्दा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *